Monday, November 22, 2010

૨૧.૧૧.૨૦૧૦


सभ्यता का मूल्य

कवी और लेखक,अजेय जी की कुछ पंक्तियां याद आ रही है:

सांप तुम सभ्य तो हुई नहीं ?


शहर में बसना तुम्हे आया नहीं?


एक प्रश्न पूछूं,उतर दोगे ?


फिर कहाँ से सिखा डसना ?


विष कहाँ से पाया ?

यह केवल एक व्यंग नहीं है I शहरी सभ्यता की जो परिभाषा कवि की कलम से पैदा हुई है ,उसके पीछे ए़क गहरा दर्द भी छिपा है I मनुष्य कभी जंगली था,फिर वह सामाजिक प्राणी बना I ज्ञान और विज्ञानं में प्रगति करते हुए ,वह और उसकी सभ्यता अन्तरिक्ष की ऊँचाइयों तक जा पहुची I पर दूसरी ओर उसने जंगला कट डाले ,धुएं और प्रदूषण प्रकृति का दम घोट डाला ,वाहनों और कल-कारखानों के शोर से पक्षियों की चहचहाट डुबा डाली I नदी-नालों में विष बहा डाला I फिर भी वह यह दवा करता रहा की उसकी सभ्यता प्रगति कर रही है I भ्रष्टाचार,अपराध,जमाखोरी, घूसखोरी, चरित्र की गिरावट—सब एक सभी समाज के कर्णधार बन गई –ऐसे में कवि और कोई परिभाषा दे भी कैसे सकता था I पर यदि हमें यह परिभाषा स्वीकार नहीं ,यदि हमें मानव-मूल्यों का आदर बनाए रखना है, और यदि हम नहीं चाहतें कि हमारी आनेवाली पीढियाँ हमें धृणा से देखें ,तो हमें इस परिभाषा को बदलना होगा I अपनी धरती ,अपनी प्रकुति और अपने जीवन-मूल्यों के प्रति ,अपने कर्तव्यों का पालन करना होगा I

तभी यह सम्भव है कि हम अपनी संस्कृति,अपने समाज और अपनी सभ्यता कि एक नयी परिभाषा रच सकें I

६(अभिताभ का खजाना... ....से)

Monday, November 15, 2010

‘બાળદિન’

૧૪.૧૧.૨૦૧૦.

આજે ૧૪ નવેમ્બર ચાચા નહેરુ નો જન્મ દિવસ ‘બાળદિન’.



“Least we forget,
The service of India,means the service of the millions who suffer,
It means the end of proverty and ignorance and desease and equality of opportunity.

“If any people choose to think of me then I should like them to say –this was a man who with all his mind & heart loved India and the Indian people in turn were indulgent to him and gave him of their love most abundantly & extravagantly”
Jawaharlal Naheru









Friday, November 12, 2010

" समय समय बलवान है, नही किन्तु मनुष्य !! "

૧૧.૧૧.૨૦૧૦

આજ ની પોસ્ટ વિચાર જગત માં થી સાભાર .......
ફેમસ ગેઇમ - શો "કૌન બનેગા કરોડપતિ-૪"નાં એક સ્પર્ધક અંતિમ લક્ષ્યની અણી પર પહોંચી ચૂકી ગયા.
પોતાને મુસ્તાક સમજતો આદમી, (ખરાબ) સમય આગળ ઝૂકી પડ્યો અને
" समय समय बलवान है, नही किन्तु मनुष्य !! "
વાત જાણે સાચી પાડી ગયો.

કિનારે પહોચેલા વહાણની ડૂબ્યાની વાત છે ,
ને માઈલો કાપ્યા બાદ અંતર ખૂટ્યાની વાત છે .
આકાશને આંબવા નીકળેલ વિહગની હાફ્યાની વાત છે,
ને એક હાથ છેટે જ શ્વાસ ખૂટ્યા ની વાત છે .
ખેલનાં નામે નીકળેલ આદમીની હાર્યાની વાત છે ,
ને જીવનનાં ખેલમાં ક્યાં અટકવું એ શીખ્યાની વાત છે .
મુસ્તાક માનવીની સમય આગળ ઝૂક્યાની વાત છે ,
ખેલજીવન હો, કે જીવનખેલ વિટંબણામાંથી સરક્યાની વાત છે .
- જગત અવાશિયા







Tuesday, November 9, 2010

शब्दों कि ताकत

૦૮.૧૧.૨૦૧૦


शब्दों कि ताकत
कभी भी आपने विचार किया है कि बुध्ध,महावीर,नानक,कबीर,रहीम,कन्फ्युशियस,गाँधी या विवेकानंद जैसे संत ,महात्मा और महापुरुषों में ऐसा क्या था ,जो उनके वर्षों बाद भी दुनिया उनके बताए रास्तों पर चलती है Iन इनके पास कोई अपर धन –सम्पति थी, न सेने, नालाम्बे-चौड़े राज्य थे.,न भय,न आतंक,फिर ऐसा क्या था,जिसके दम पर,ये सभी व्यक्तित्व,आज भी हम पर राज कर रहे है I
इन सभी साधारण व्यक्तियों के पीछे ,असाधारण शब्दों की ताकत थी I इन के पास विचारों कि सेनाएं थीI शब्दों के सैनिक थे I और इन्ही अनमोल शब्दों की बदौलत इन महापुरुषोंने दुनियाको जीता I
दिखने में एक छोटा सा साधारण “शब्द” अजर –अमर और अपार शक्ति से भरा होता है I उसमें एक जीवन,एक समाज,एक राष्ट्र और एक दुनिया को बदलने की ताकत होती है Iअगर शब्द दुनियामे शांति ला सकते है, तो क्रांति लाने का सामर्थ्य भी रखते है I इसीलिए कबीरदास जी ने कहा है :
"शब्द शब्द सब कोई करें, शब्द के हाथ न पांव
एक शब्द औषधि करे, एक शब्द करे घाव I"
जरा सोचिये कि सन्तो के चंद शब्द सदियों से दुनिया को प्रेरित करते आ रहें है I फिर यह दिनिया तो अपार किताबों ,ग्रंथों और साहित्यसे भरी पड़ी है I
क्यों न हम भी इन शब्दों की ताकत को पहचानें,और इन्हें जीवन में उतारें क्योकिं शब्दों के अध्ययन से ही व्यकित विद्ववान बन सकता है I
राज भले ही अपने राज्य में पूजा जाय,लिकिन विद्ववान हर जगह पूजा जाता है I
५(अभिताभ का खजाना... ....से)

Sunday, November 7, 2010

૦૬.૧૧.૨૦૧૦



                                      ~: શુભ દિપાવલી :~


જીવનમાં વર્ષો ઉમેરાતાં જાય છે,


આ ‘નૂતન’ વર્ષે ,


જીવન ઉમેરીએ તો કેવું ?!!


નવલા વર્ષનું પરોઢ, આપ


સૌના સોનેરી સોણલાં સાકાર કરે……!!




                                 नव वर्ष है….. नव हर्ष हो

                                 नव वर्ष है….. नव हर्ष हो


                                एक नई सुबह का स्पर्श हो ….


                                नव कामना का एहसास हो


                                नव कल्पना का वास हो


                                नव यौवन का उल्लास हो


                                नव कोपल का आभास हो


                               नव वर्ष को धारण करे


                               नव किरणों का स्वागत करे ….


                              नव वर्ष है …नव हर्ष हो….


                              नव युग बने नव पुरु चुने


                              जो खो गया उसे बिदा करे


                             नव मीत का स्वागत करे ….


                             है प्राथना बस यह प्रभु


                            नव वर्ष शान्ति का वर्ष हो …


                            सद्भावना का वास हो


                            सच्चाई का भी साथ हो


                          मनोविकारों से नाता मिटे


                          मिलाप में जीवन कटे


                          बुराई का विसर्जन करे


                         नफरत का व्यक्तित्व शून्य करे


                         हो दिलो में जीने देने की आस


                        नव निर्माण का हो अथक प्रयास


                        नव कृति की नींव धरे


                        नव वर्ष का आह्वान हो


                         नव वर्ष है नव हर्ष हो


                         मंगलमय आपका ये वर्ष हो….


(संकलित काव्य)

Thursday, November 4, 2010

और भी अच्छा

૦૪.૧૧.૨૦૧૦



और भी अच्छा
दूसरों की भलाई करना अच्छा,लेकिन अपनी बुराई ढूढनाऔर भी अच्छा I
दूसरों के लिए चिन्ता करना अच्छा,लेकिन अपने लिए चिन्तन करना और भी अच्छा I
सत्य वचन सबसे अच्छा,लेकिन दूसरों की भलाई में झूठ बोलना और भी अच्छा.
चरित्र निखरे तो अच्छा,प्यार हर जगह बिखरे तो, और भी अच्छा I
खेल में जितना अच्छा,लेकिन प्यार में दिल हार जाना और भी अच्छा I
कर्ज चुकाना अच्छा,फर्ज निभाना अच्छा,मर्ज भगाना अच्छा I
बुराई पर नियंत्रण अच्छा, अच्छाई का निमन्त्रण अच्छा I
मन से बोझ हटाना अच्छा,तन पर बोझ डालना अच्छा I
अपनी शक्ति अच्छी,दूसरों कि भक्ति अच्छी I

४(अभिताभ का खजाना... ....से)

Wednesday, November 3, 2010

हर कोई अपने आप में पूर्ण है

૦૨.૧૧.૨૦૧૦


हर कोई अपने आप में पूर्ण है
हमारा मानना है कि हर व्यक्ति चाहे छोटा हो या बड़ा,बलवान हो या निर्बल,विद्वान या अनपढ़,शरीर-सम्पन्न या विकलांग अपने आप में पूर्णता लिए हुए है Iअपने आप में महान है I

जिन्हें हो शक वो करें और खुदाओ कि तलाश
हम तो इंसान को ही दुनिया का खुदा कहते है I
अमरीका के एक प्रख्यात लेखक डेल कार्नेगी का कहना है कि हो सके तो पर्वत कि चोटी बनिए,पर यदि पर्वत कि चोटी न बन पाए तो उस छोटी पर उगनेवाले देवदार के वृक्ष बनिए I यदि देवदार भी नहीं बन पाएं तो घाटी में या किसी झरने के पास एक छोटा- सा सुन्दर वृक्ष बनिए I यदि वृक्ष ना बन पाएं तो एक झाड़ी ही बनिए अगर झाड़ी भी न बन पाएं तो वह नरम घास बनिए जो किसी के मार्ग पर बिछाकर उसके मार्ग को सुखद वनता हे I और यदि आप मार्ग नहीं बन सकते तो एक पगडंडी बनिए I I
आकार से ही हमारी सफलता या असफलता का निर्धारण नहीं होता I अपनी योग्यता के अनुसार ही हम श्रेष्ट बनते है I दुसरो की बराबरी या नक़ल करना आवश्यक नहीं I हम जो भी बन सकते है, वही बने रहे,इसी में ही हमारी शोभा है I
३(अभिताभ का खजाना... ....से)

Monday, November 1, 2010

સરદાર સાહેબ ની જન્મજયંતી અને ઇન્દિરાજી ની પુણ્ય તિથી

૩૧.૧૦.૨૦૧૦


      આજે ૩૧.૧૦ સરદાર સાહેબ ની જન્મજયંતી અને ઇન્દિરાજી ની પુણ્ય તિથી

                                         દીર્ઘ દ્રષ્ટા સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ


                  સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ (૩૧ ઓક્ટોબર ૧૮૭૫ - ૧૫ ડિસેમ્બર ૧૯૫૦)

ગાંધીજી ની હત્યા પછી અચાનક રેડીઓ પર શોકગ્રસ્ત ગીતો શરુ થયાં .તે જમાનામાં ટી.વી. ન હતાં.ઉદઘોષકે જણાવ્યું રાષ્ટ્રપિતા ગાંધી હવે આપણી વચ્ચે રહ્યા નથી .તે પછી પંડિત જવાહરલાલ નહેરુ રેડીઓ પર આવ્યા અને તેમણે કહ્યું કે એક પાગલ માણસે બાપુ ની ગોળી થી હત્યા કરી....તેમનો કંઠ રૂંધાય ગયો...ત્યાર બાદ સરદાર વલ્લભભાઈ પટેલ રેડીઓ પર આવ્યા તેમણે કહ્યુંકે... મહાત્મા ગાંધીની હત્યા થઇ છે.એક હિંદુ નામે નાથુરામ ગોડસે એ ગોળી ચલાવી છે.આ કરુણ પ્રંસંગે સરદાર સાહેબે સ્વસ્થતા ગુમાવી ન હતી અને હ્ત્યારાનાં નામ અને ધર્મ નો ઉલ્લેખ કરી તેમણે આખા દેશ ને કોમી રમખાણ માં થી ઉગારી લીઘો હતો.
આમ તેની દીર્ધ દ્રષ્ટિ આવા સંજોગમાં પણ કામ લાગી.
                              Gandhi, Indira (1917-1984)
                                                         (19.10.1917 to 31.10.1984 )

"I don't mind if my life goes in the service of the nation. If I die today every drop of my blood will invigorate the nation."


(Assassinated by Sikh militants the following day.)


“We cannot perform miracles, we have no magic wand, But we have some thing close to it. And that is our ability to work hard, to sacrifice and to demonstrate our determination and integrity in working for the welfare of the poor.”